झीनी-झीनी बीनी चदरिया
झीनी-झीनी बीनी चदरिया,
काहे कै ताना, काहै कै भरनी, कौन तार से बीनी चदरिया।
इंगला पिंगला ताना भरनी, सुखमन तार से बीनी चदरिया॥
आठ कँवल दल चरखा डोलै, पाँच तत्त गुन तीनी चदरिया।
साँई को सियत मास दस लागै, ठोक-ठोक कै बीनी चदरिया॥
सो चादर सुर नर मुनि ओढ़ी, ओढ़ी कै मैली कीनी चदरिया।
दास 'कबीर' जतन से ओढ़ी, ज्यों की त्यों धरि दीनी चदरिया॥
- कबीरदास

***
कबीरदास
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 काहे री नलिनी तूं कुमिलानी
 झीनी-झीनी बीनी चदरिया
 साखी
इस महीने :
'हिन्दोस्तां हमारा'
विनोद तिवारी


एक मस्जिद को तोड़ कर मानो एक मन्दिर बना लिया हमने।
इससे कितनों को मिल गई रोटी, किस समस्या को हल किया हमने।

बात मेरी नहीं है उसकी है, जिसका इनसानियत से रिश्ता था ।
एक गांधी था जो महात्मा था, जो कि सच्चाई का फरिश्ता था ।

सिर्फ इनसानियत एक मज़हब है, एक ही है खुदा सबका ।
एक ही ज़मीन है सबकी, एक ही आसमान है सबका ।

..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
इस महीने :
'सत्यं शिवं सुन्दरम्'
सुधीर कुमार शर्मा


वसुधा के कण-कण तृण-तृण में
सूरज चंदा नीलगगन में
नदिया पर्वत और पवन में
कोटि-कोटि जन के तन-मन में
सिमटी उस विराट शक्ति को
मन-मंदिर में सदा बसाओ
शिव से ही कुछ सुन्दर उपजाओ
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 20 दिसम्बर को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website