बीती विभावरी जाग री!
बीती विभावरी जाग री!
                  अम्बर पनघट में डुबो रही
                  तारा घट ऊषा नागरी।
खग कुल-कुल सा बोल रहा,
किसलय का अंचल डोल रहा,
                  लो यह लतिका भी भर लाई
                  मधु मुकुल नवल रस गागरी।
अधरों में राग अमंद पिये,
अलकों में मलयज बंद किये
                  तू अब तक सोई है आली
                  आँखों में भरे विहाग री।
- जयशंकर प्रसाद
काव्यपाठ: विनोद तिवारी

***
जयशंकर प्रसाद
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 बीती विभावरी जाग री!
 कामायनी ('लज्जा' परिच्छेद)
 कामायनी ('निर्वेद' परिच्छेद के कुछ छंद)
 प्रयाणगीत
इस महीने
'समय की शिला पर'
शम्भुनाथ सिंह


समय की शिला पर मधुर चित्र कितने
किसी ने बनाये, किसी ने मिटाये।

किसी ने लिखी आँसुओं से कहानी
किसी ने पढ़ा किन्तु दो बूंद पानी
इसी में गये बीत दिन ज़िन्दगी के
गयी घुल जवानी, गयी मिट निशानी।

विकल सिन्धु के साध के मेघ कितने
धरा ने उठाये, गगन ने गिराये।
...
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 22 दिसम्बर को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें