अप्रतिम कविताएँ पाने
बसंत और पतझड़

हिन्दी अनुवाद

मैं तेज़ी से भागी स्कूल के बाहर
बगीचे से होते हुए, जंगल तक
बिताया पूरा बसंत, अब तक का सीखा भूलने में

दो दूनी चार और मेहनत और बाकी सब
बनना विनम्र और उपयोगी, होना सफल और बाकी सब
मशीन और तेल, प्लास्टिक और पैसे और बाकी सब

पतझड़ आने तक कुछ भर चुके थे मेरे घाव, तभी बुला लिया गया मुझे
उन्हीं चॉक और डेस्क से भरे कमरों में, बैठकर याद करने

कैसे बह रही थी नदी पत्थरों पर
कैसे गा रहे थे जंगली पक्षी जिनके बैंक में नहीं थी फूटी कौड़ी
कैसे ओढ़े हुए थे फूल, कुछ नहीं बस नूर!


अंग्रेज़ी मूल

I went out of the schoolhouse fast
and through the gardens to the woods,
and spent all summer forgetting what I'd been taught --

two times two, and diligence, and so forth,
how to be modest and useful, and how to succeed and so forth,
machines and oil and plastic and money and so forth.

By fall I had healed somewhat, but was summoned back
to the chalky rooms and the desks, to sit and remember

the way the river kept rolling its pebbles,
the way the will wrens sang though they hadn't a penny in the bank,
the way the flowers were dressed in nothing but light.


- मेरी ऑलिवर
- अनुवाद: नूपुर अशोक
नूर : चमक

16th Sep 2022 को प्रकाशित

***
इस महीने :
'ओस जितनी नमी '
जया प्रसाद


एक नाप जितनी ख़लिश
ख़लती नहीं
चलती है

जैसे ओस की बूंद जितना
सीलापन
जैसे नींद के बाद वाली
हलकी सी थकन --
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
अक्षर नगरी

एक थी अक्षर नगरी सुन्दर
उसमें रहते सारे अक्षर।
एक था छोटा बच्चा अ,
उसका भाई बड़क्का आ।
अ की सखी थी छोटी इ।
उसकी बड़ी बहन थी ई।
चारों बच्चे बहुत दोस्त थे;
साथ खेलते और पढ़ते थे।

एक बार वे चारों बच्चे
एक पार्क में खेल रहे थे।
उस दिन उनके उसी पार्क
में चार नए बच्चे आये थे।

... पूरी रचना यहाँ पढ़ें

इस महीने :
'इस नश्वर संसार में'
कुंदन सिद्धार्थ


सिर्फ़ दुख नहीं जाता
सुख भी चला जाता है
यहाँ रहने कौन आया है

सिर्फ़ घृणा नहीं हारती
प्रेम भी हार जाता है

संसार में सबसे दुखभरी होती है प्रेम की हार
तब प्रेम सिर्फ़ कविताओं और कहानियों में
बचा रह जाता है

यही बचा हुआ प्रेम
हमारी आँखों में ..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website