आनन्द
क्यों न इस क्षण को अमर कर लूँ?
यह निस्तब्ध निशा
यह एकांत -
इस समय मुझे कोई चिंता नहीं
आज की सब ज़रूरतें पूरी हो चुकी हैं
अपनी भी और दूसरों की भी
कल की चिंता करने की
अभी आवश्यकता नहीं
घर के सब लोग निद्रामग्न हैं
और एकांत कक्ष में
दीपक जलाए
मैं अकेली बैठी हूँ
कितना शांत है समय
कमरे का तापमान ऐसा
जो शरीर को सुहावना लग रहा है
न अधिक गर्म न ठंडा
न पंखे की ज़रूरत
न कुछ ओढ़ने की
यह मध्य-रात्रि का समय
मेरा कितना अपना है
ऐसे समय में
जो लोग दिनभर नज़दीक रहते हैं
वे थोड़े दूर चले जाते हैं
और वे दूर वाले
न जाने कहाँ-कहाँ से चलकर
नज़दीक चले आते हैं।
उनमें से कइयों को पत्र लिख डाले हैं
दूरवालों को दिल के क़रीब बुलाकर
सीने से लगा लिया है
मन की बात कही है
सुनी है; इस समय
प्रतिपल दिमाग को घेरे रहने वाले
कभी न खत्म होने वाले
हज़ार हज़ार छोटे-छोटे
और बड़े-बड़े काम
याद नहीं आ रहे हैं
बड़ी निश्चिंत बैठी हूँ मैं
बड़े आराम में हूँ
यह फ़िक्र नहीं
कि बाल बिगड़े हैं या
साड़ी में सल भरी है
कि हाथों की चूड़ियाँ
साड़ी के रंग की हैं या नहीं
कि नौकरों ने सब काम
पूरे किये या नहीं
बच्चों ने खाना खाया कि नहीं
और यह भी चिंता नहीं
कि पतिदेव अकेले बैठे हैं
उनके पास जाकर बैठना चाहिए
अभी तो सब निद्रा-मग्न हैं
और मैं भी तो मग्न हूँ।
--- आनंदमग्न ---
जिस आनंद को
मैं दिनभर ढूँढती रही हूँ
घर में, और बाहर
पुत्र-पुत्री में, सगे-संबंधियों में
फल-फूलों में, बाग़-बगीचों में
काम-काज में, बाज़ार-हाट में
हीरे-मोतियों में, साज-सामानों में
पोथी-पुस्तकों में, दिवा-स्वप्नों में
वह आनंद तो यह रहा
इस समय, इस क्षण तो वह
बिना ढूँढे ही
बिना माँगे ही
आप से आप
अनायास ही प्राप्त हो गया है।
इस समय, इस एकांत में
मैं अनुभव कर रही हूँ
कि मैं केवल 'अपने' पास हूँ
मैं केवल 'मैं' हूँ।
- कुमुदिनी खेतान

***
इस महीने

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 26 अप्रैल को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website