अगली प्रस्तुति शुक्रवार 29 मार्च को

ईमेल में पाने सहेजने ईमेल दर्ज़ करें
'होली की शाम'
गीता मल्होत्रा


होली की शाम सड़कें वीरान
जैसे गुज़र गया हो कारवाँ
छोड़ गया कुछ अपनी निशानियाँ -- ...

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
'मामला संगीन है'
नीशू पूनिया


घाटी है... एक औरत

उसी सदियों पुरानी देग में...
ख़ुद के गोश्त को पकाती

कतरा दर कतरा
ख़ुद को ख़ुदी से... करती हलाल
...

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
'श्रीहत फूल पड़े हैं'
वीरेन्द्र शर्मा


अंगारों के घने ढेर पर
यद्यपि सभी खड़े हैं
किन्तु दम्भ भ्रम स्वार्थ द्वेषवश
फिर भी हठी खड़े हैं

क्षेत्र विभाजित हैं प्रभाव के
बंटी धारणा-धारा
वादों के भीषण विवाद में
बंटा विश्व है सारा
शक्ति संतुलन रूप बदलते
घिरता है अंधियारा
किंकर्त्तव्यविमूढ़ देखता
विवश मनुज बेचारा ...

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
देखें कौन सी मिलती है!
संग्रह से कोई भी रचना
नई प्रकाशित कवितायें
काव्य लेख में नए लेख

आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय
प्रतिध्वनि में नया ऑडियो
विशेष प्रस्तुति: यह अमरता नापते पद
महादेवी वर्मा को एक छोटी सी श्रद्धांजलि
विशेष प्रस्तुति: कनुप्रिया मुखरित हुई
धर्मवीर भारती की कालजयी रचना 'कनुप्रिया' पर एक ऑडियो-वीडियो श्रृंखला
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
शिलाधार - 20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
युगवाणी - 20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
नव-कुसुम - उभरते कवियों की रचनाएँ
काव्य-सेतु - अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मुक्तक - मोती समान पंक्तियों का चयन

प्रतिध्वनि कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा

काव्य लेख काव्य सम्बन्धित लेख

प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार