अभिषेक
आज दसों दिशाएँ सखियाँ बनकर परम प्रभु की अर्चना के लिए आकाश से पृथ्वी पर उतरी हैं।

आज हमारा है अभिषेक,
रक्तिम आज क्षितिज की रेख ।
दसों दिशाएँ सखियाँ बनकर,
महासिन्धु से स्वर्ग कलश भर
रंग - रंग के परिधानों में,
नभ - मन्डल से उतरीं भू पर ।

आज हमारा है अभिषेक,
रक्तिम आज क्षितिज की रेख ।

आज मनीषा मंगलमय हो,
उल्लासों से पूर्ण हृदय हो ।
पृथिवी नभ के अन्तराल में,
गूँज रहा स्वर जय जय जय हो ।

आज हर्ष का है अतिरेक,
रक्तिम आज क्षितिज की रेख ।

लोक - लोक के पुष्प सुगन्धित,
करने को श्रद्धा निज अर्पित,
आज सागरों के अंतर में,
भरा भावना का आवेश ।

आज हमारा है अभिषेक,
रक्तिम आज क्षितिज की रेख ।
- सत्यकाम विद्यालंकार
Ved Pushpanjali - Satyakam Vidyalankar
ऋग्वेद और सामवेद के इस श्लोक से प्रेरित

असर्जि वक्वा रथ्ये यथाजौ, धिया मनोता प्रथमा मनीषा ।
दश स्वसारो अधि सानो अव्ये, मृजन्ति वह्निं सदनेष्वच्छ ॥
- ऋग्वेद ९|९१|१ - सामपूर्वाचिक ६।५।११

***
इस महीने
'जल कर दे'
वाणी मुरारका


ईश्वर मुझको जल कर दे
सीमित कर सागर कर दे

मोड़े तू जिस ओर मुझे
चल दूँ दे जी-जान तुझे

चट्टानों से ढल कर के
निर्मल निर्झर सा कर दे ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 19 जनवरी को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें