इस महीने
गीत कवि की व्यथा ~ किशन सरोज

इस गीत-कवि को क्या हुआ?
अब गुनगुनाता तक नहीं।

इसने रचे जो गीत
जग ने पत्रिकाओं
में पढ़े।
मुखरित हुए
तो भजन-जैसे
अनगिनत होठों चढ़े।

होंठों चढ़े, वे मन-बिंधे
अब गीत गाता तक नहीं।

पूरी रचना ...
प्रतिकूल वातावरण में भी सौन्दर्य ही रचने का गोपाल गुंजन का संकल्प -

सोचा था मैंने
अब नहीं लिखूँगा कविताएँ
टूटन की, घुटन की
लावारिस आँखों के सपनों की
...
चुनूँगा शब्द व्योम से,
प्रकृति से, सागर से, तरु से, मरु से
सूरज के गाँव बैठ ...
पूरी रचना ...
प्रतिध्वनि में नया ऑडियो
महादेवी वर्मा
विनोद तिवारी
मंजरी गुप्ता पुरवार
प्रिया नागराज
नई प्रकाशित कवितायें
महादेवी वर्मा
मंजरी गुप्ता पुरवार
नागार्जुन
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
उभरते कवियों की रचनाएँ
अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मोती समान पंक्तियों का चयन
कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा:
काव्य सम्बन्धित लेख:
प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार