काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
प्रतिध्वनि
कविता सुनने के दौरान कविता पढ़ने के लिए, कविता के नाम पर क्लिक करें| यह आपको कविता के पेज पर ले जाएगा, जहाँ आप कविता पढ़ और सुन सकते हैं|

अटल बिहारी वाजपेयी
ऊँचाई
काव्यपाठ: रुचि वार्ष्णेय
अमीर खुसरो
मुकरियाँ
काव्यपाठ: शिखा गुप्ता
अमृत खरे
अभिसार गा रहा हूँ

अर्चना गुप्ता
इक कविता

अर्चना गुप्ता
फिर मन में ये कैसी हलचल ?

केदारनाथ अग्रवाल
आज नदी बिलकुल उदास थी
काव्यपाठ: वाणी मुरारका
गिरिजाकुमार माथुर
बरसों के बाद कहीं
काव्यपाठ: विनोद तिवारी
गीता मल्होत्रा
व्यथा जी उठी

गोपाल गुंजन
मेरी कविताएँ

जयशंकर प्रसाद
प्रयाणगीत
काव्यपाठ: विनोद तिवारी
जयशंकर प्रसाद
बीती विभावरी जाग री!
काव्यपाठ: विनोद तिवारी
दिनेश शुक्ल
कौन रंग फागुन रंगे
काव्यपाठ: पारुल 'पंखुरी'
पारुल 'पंखुरी'
चीख

प्रभाकर शुक्ला
सुप्रभात
काव्यपाठ: वाणी मुरारका
प्रिया नागराज
वो चुप्पी

मंजरी गुप्ता पुरवार
सुर्खियाँ

माखनलाल चतुर्वेदी
पुष्प की अभिलाषा
काव्यपाठ: विनोद तिवारी
रामकुमार वर्मा
ये गजरे तारों वाले
काव्यपाठ: वाणी मुरारका
रामधारी सिंह 'दिनकर'
चाँद और कवि
काव्यपाठ: विनोद तिवारी
वाणी मुरारका
चुप सी लगी है

विनोद तिवारी
दुर्गा वन्दना
काव्यपाठ: पारुल 'पंखुरी'
विनोद तिवारी
प्रवासी गीत

विनोद तिवारी
मेरी कविता

विस्सावा शिंबोर्स्का
यातनाएं
काव्यपाठ: वाणी मुरारका
शिखा गुप्ता
क्या हूँ मैं

शिखा गुप्ता
नदी समंदर होना चाहती है

शिव मंगल सिंह 'सुमन'
आभार


a  MANASKRITI  website