काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
वाणी मुरारका
वाणी मुरारका की काव्यालय पर रचनाएँ
अधूरी साधना
गहरा आँगन
चुप सी लगी है
जल कर दे

वाणी मुरारका की आवाज़ में अन्य कवियों की रचनाएँ
आज नदी बिलकुल उदास थी - केदारनाथ अग्रवाल
कनुप्रिया (अंश 4) समुद्र-स्वप्न - धर्मवीर भारती
तुम्हारे साथ रहकर - सर्वेश्वरदयाल सकसेना
यातनाएं - विस्सावा शिंबोर्स्का
ये गजरे तारों वाले - रामकुमार वर्मा
सुप्रभात - प्रभाकर शुक्ला
वाणी मुरारका काव्यालय की संस्थापिका, और डॉ विनोद तिवारी के साथ काव्यालय की सह-सम्पादक हैं। उन्होंने एक मौलिक सॉफ़्टवेयर का निर्माण किया है - गीत गतिरूप, जो काव्य शिल्प परिष्कृत करने में कवि की सहायता करता है।

वे प्रधानत: अंग्रेजी में लिखती हैं। उनकी प्रथम पुस्तक है "12 Drops of Silence"। कोलकाता में भौतिकी विज्ञान और अमरीका में कम्प्यूटर विज्ञान में शिक्षा प्राप्त की, और कई वर्षों तक सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में काम किया। अब काव्यालय, गीत गतिरूप और लिखने पर ध्यान दे रही हैं।



सम्पर्क: Facebook


a  MANASKRITI  website