काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
अर्चना गुप्ता
अर्चना गुप्ता की काव्यालय पर रचनाएँ
फिर मन में ये कैसी हलचल ?
इक कविता

अर्चना गुप्ता पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और हिन्दी/उर्दू कविता/शा'इरी लिखने और पढ़ने व पुराने हिन्दी फ़िल्मी गीत सुनने का शौक़ रखती हैं।दिल्ली में जन्मी, पली अर्चना, लगभग पिछले दो दशकों से अपने पति व पुत्रों के साथ अमरीका गणराज्य की निवासिनी हैं।ये धाराप्रवाह हिन्दी, अंग्रेज़ी और पंजाबी बोल लेती हैं।

वैसे द्य और पद्य दोनों ही पढ़ने में अत्याधिक रूचि रखती हैं परंतु गत कुछ वर्षों से सभी भाषाओं में काव्य के प्रति रुझान अधिक रहा है। हिंदी में श्री हरिवंशराय बच्चन और श्रीमती महादेवी वर्मा को और उर्दू में मिर्ज़ा ग़ालिब, फ़ैज़ अहमद 'फैज़' और कैफ़ी आज़मी को अपने सर्व प्रिय कवियों में गिनती हैं और अमृता प्रीतम के प्रति विशेष आसक्ति रखती हैं।

लेखन-पाठन के अतिरिक्त, अपने बेटों को बेसबॉल खेलते देखना, देश-विदेश का पर्यटन करना, फिल्में देखना, खाना बनाना और स्क्रैप बुकिंग करना इन की अन्य रुचियाँ हैं।
सम्पर्क: gupta.archana@gmail.com


a  MANASKRITI  website