आना

हिन्दी अनुवाद

मैं यहाँ अकेली हो गई...

मैं घड़ी की, घंटे की सुई
और तू सैकण्ड की सुई
समान... रुकता ही नहीं।
दिन का अवसान
अभी बाकी है...
पागल हुई पर,
श्वांसप्राण बाकी है...

लेकिन तू... समझता ही नही!!

आना... राह तकूंगी
अभी महाप्रयाण बाकी है,
तेरे, कंधों की सैर
बाकी है,
इन लरज़ती अँगुलियों की
छुअन बाकी है,
अभी बंज़र धरा में
तूफ़ान बाकी है।
आना, अगली बात बाकी है,
सूखी बगिया में
बहार बाकी है।
जीवन नौका की
पतवार बाकी है।
तेरी और मेरी

बात बाकी है।।

अधूरी वात (गुजराती मूल)

हूँ अत्यारे, एकली थई गई...

हूँ घड़ियाल नी, घंटा नो शूल,
अणे तू सेकंड नो शूल
सम... थमतो ज नथी।।
दिवस नो अवसान
हवे बाकी छे...
घेलि थई पण ,
स्वांस प्राण बाकी छे...

पण तू... हमजे ज नथी।।

आवजो... वाट जोविश
हवे महाप्रयाण बाक़ी छे,
तारी, काँधा नी सेर
वाकी छे,
आ थरथराती अंगुलिओनी
छुवन वाकी छे,
हवे बंज़र धरा मां
तूफ़ान वाकी छे।।
आवजो, आगली वार्ता
वाकी छे, सूखी फुलवारी
नी वहार वाकी छे।
होड़ी मां पतवार
वाकी छे।
तारी अने मारी

वार्ता वाकी छे।।
- नीशू बाल्यान

3rd Feb 2017 को प्रकाशित

***
इस महीने की कविता
'खिलौना'
शबनम शर्मा


मैंने छुआ,
सहलाया उन्हें
व एक खिलौने
को अंक में भरा
कि पीछे से कर्कष
आवाज़ ने मुझे
झंझोड़ा ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने की कविता
'ठुकरा दो या प्यार करो'
सुभद्रा कुमारी चौहान


देव! तुम्हारे कई उपासक कई ढंग से आते हैं।
सेवा में बहुमुल्य भेंट वे कई रंग की लाते हैं॥

धूमधाम से साजबाज से वे मंदिर में आते हैं।
मुक्तामणि बहुमुल्य वस्तुऐं लाकर तुम्हें चढ़ाते हैं॥

मैं ही हूँ गरीबिनी ऐसी जो कुछ साथ नहीं लायी।
फिर भी साहस कर मंदिर में पूजा करने चली आयी॥ ...
पूरी रचना यहाँ पढें...